Press "Enter" to skip to content

दिल्ली में रहकर की तैयारी तो 3 साल लगातार हुए फेल, गांव की 2 साल की पढ़ाई ने बीपीएससी में दिलाया 27 वां स्थान

बुधवार की देर शाम बीपीएससी 66वीं का रिजल्ट जारी किया गया है। टॉप टेन में जहां बिहार के अलग-अलग जिले के 10 अभ्यर्थी मौजूद है। वही जहानाबाद जिले के गंगापुर गांव के निवासी बिजली मिस्त्री राजदेव चंद्रवंशी के बेटे सुनील सक्सेना ने 27 वां स्थान प्राप्त किया है।

गांव में जश्न का माहौल है। मिठाईयां खिलाई जा रही है। खुशी का मौका लंबे इंतजार के बाद आया है। जहानाबाद जिले के कड़ौना ओपी अंतर्गत गंगापुर गांव के रहने वाले सुनील सक्सेना ने बीपीएससी में 27 वां स्थान प्राप्त किया है। सुनील बताते हैं कि इसके पहले तीन बार बार कोशिश की। लेकिन थोड़ी सी चूक से सफलता हाथ आने से रह गई। चौथे प्रयास में जब सफलता हाथ लगी तो खुशी से फूले नहीं समा रहे।

सुनील बताते हैं कि लॉकडाउन में उन्हें दिल्ली छोड़कर गांव आना पड़ा और 2 साल से गांव में ही तैयारी कर रहे थे। गांव में तैयारी करना इंटरनेट और किताबों की वजह से आसान हो गया। लगातार नोट्स से पढ़ाई की और अंततः सफलता हाथ लगी।सुनील की सफलता से घर परिवार के साथ ही गांव के लोगों ने भी खुशी का माहौल है। पिताजी खुश इतने हैं कि कुछ बोल भी नहीं पा रहे हैं।

भाई भाभी ने सुनील को होनहार छात्र बताया। साथ ही यह भी कहा कि हम सब को यह उम्मीद जरूर थी कि एक न एक दिन सुनील को सफलता मिलेगी। जयप्रकाश चंद्रवंशी बताते हैं की सुनील की सफलता से नई पीढ़ी को एक संदेश मिलेगा। सुनील की सफलता ये संदेश देती है कि, जो लोग तरक्की प्राप्त करने के लिए मेहनत करने की ठान लेते हैं उन्हें एक न एक दिन सफलता जरूर मिलती हैं।

sunilsexsena

सफलता प्राप्त करने के बाद इंसान उस दुनिया में पहुँच जाता है जिस दुनिया के वो अक्सर ख्वाब देखा करता था। तब उसे कैसा महसूस होता है और वह क्या-क्या सोचता है। ये सुनील की बातों से पता चलता है

More from खबर बिहार कीMore posts in खबर बिहार की »

Be First to Comment

    प्रातिक्रिया दे

    आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.