Press "Enter" to skip to content

Posts tagged as “#BPSC”

बिहार लोक सेवा आयोग के अभ्यर्थी के हंगामा का मामला

हंगामा बरतने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूरे मामले पर लिया संज्ञान । पूरे मामले पर कल मुख्य सचिव के साथ मुख्यमंत्री ने बुलाई बैठक ।

बैठक में मुख्य सचिव के साथ बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष और सचिव और बड़े अधिकारी होंगे शामिल । बिहार लोक सेवा आयोग के अभ्यर्थी 2 दिन परीक्षा लिए जाने और परसेंटाइल का विरोध कर रहे हैं।

BPSC
BPSC

आज इसी मामले को लेकर आज इनका विरोध प्रदर्शन था और इसी दौरान पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा।

BPSC प्रश्नपत्र लीक मामले में 6 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

बिहार लोक सेवा आयोग के प्रश्नपत्र लीक मामले में आर्थिक अपराध इकाई ने 6 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दिया है। इनमें राजस्व पदाधिकारी राहुल कुमार शामिल है ।

BPSC
BPSC

अभी तक आर्थिक अपराध इकाई 15 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर चुकी है जबकि अभी तक अनुसंधान के दौरान 18 आरोपी को गिरफ्तार किया जा चुका है।

विपरीत परिस्थितियों के बीच अरवल के आदर्श ने स्थापित किया आदर्श, वायु सेना से लेकर बीपीएससी तक की तय की सफर

अरवल जिले के नक्सल प्रभावित कुर्था में बीपीएससी में दूसरा स्थान लाए जाने के उपरांत खुशी का माहौल है। कहा गया है हौसला बुलंद हो तो मंजिले झुक के सलाम करती है। जी हां यह उक्ति प्रखंड क्षेत्र के कुर्था बाजार स्थित अमृत कुमार आदर्श ने बीपीएससी में दूसरा स्थान प्राप्त कर इस उक्ति का यथार्थ साबित किया बल्कि जिले में अपना नाम रोशन किया।

गरीब घर में जन्मे अमृत कुमार ने बीपीएससी 66 में दूसरा स्थान प्राप्त अपने क्षेत्र का नाम रोशन किया। प्राप्त जानकारी के अनुसार उनके पिता उमेश ठाकुर एक निजी विद्यालय चला चला कर अपना जीवन यापन करते हुए बच्चों को सुदृढ़ शिक्षा देते थे। जिसके परिणाम स्वरूप अमृत कुमार आदर्श ने बीपीएससी में दूसरा स्थान प्राप्त किए। प्रखंड क्षेत्र के रामरतन उच्च विद्यालय से मैट्रिक परीक्षा पास करने के बाद इतिहासबसे स्नातक एवं समाजशास्त्र से स्नातकोत्तर पास की।

पढ़ाई के काम में है भारतीय एयरफोर्स में उनकी नियुक्ति हो गई। वे 9 वर्ष एयर फोर्स में अपना सेवा दे रहे हैं। तदोपरांत उनकी नियुक्ति बैंक पीओ में हो या। परंतु उनकी इच्छा प्रशासनिक सेवा में जाने की थी। और वे प्रशासनिक सेवा की तैयारी में जुट गए। हालांकि बीपीएससी 63 उत्तीर्ण होकर 156 रैंक हासिल की थी।

परंतु इनकी इच्छा और आगे कुछ करने की थी वे फिर 66 वीं बीपीएससी परीक्षा में शामिल हुए, और उन्होंने दूसरा स्थान प्राप्त कर अपने जिले एवं क्षेत्र का नाम रोशन किया। जैसे ही उनका दूसरा स्थान प्राप्त करने की खबर जिला वासियों को मिली वैसे हैं उनके घर में उनको बधाई देने वालों की ताता लग गई।

बिहार लोक सेवा आयोग ने 66वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा का रिजल्ट जारी किया

बिहार लोक सेवा आयोग ने 66वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा का रिजल्ट जारी किया है। इसमें कुल 685 अभ्यर्थी सफल हुए हैं। 689 रिक्तियों के विरुद्ध 685 उम्मीदवारों का अंतिम रूप से हुआ चयन।

वैशाली के सुधीर कुमार टॉपर हैं। वहीं, अरवल के अमर्त्य कुमार आदर्श सेंकेंड टॉपर और मुजफ्फरपुर के आयुष कृष्णा थर्ड टॉपर हैं।

आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेन्द्र कुमार ने बताया है कि इसमें 34 डीएसपी समेत विभिन्न विभागों में 685 अधिकारियों की नियुक्ति के लिए परिणाम जारी किए गए हैं।

BPSC
BPSC

BPSC परीक्षा पेपर लीक मामले में बड़ी काररवाई

पटना। बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा के पेपर लीक मामले में बड़ी काररवाई। पुलिस अफसर लिया गया हिरासत में ।

पेपर लीक की जांच कर रही आर्थिक अपराध इकाई ने लिया हिरासत में। बिहार में तैनात है पुलिस अधिकारी। डीएसपी रैंक का अफसर है पदाधिकारी। हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है टीम।

BPSC
BPSC

ईओयू सूत्रों के अनुसार, डीएसपी बीपीएससी पेपर लीक गिरोह से जुड़े सदस्यों के लगातार संपर्क में। पेपर लीक मामले में गिरफ्तार और फरार आरोपियो से बातचीत के साक्ष्य ईओयू के पास। मंगलवार को गिरफ्तारी की हो सकती है अधिकारी घोषणा।

बिहार लोक सेवा आयोग ने वर्ष 2022 में आयोजित की जाने वाली संभावित परीक्षाओं की सूची और उसका संभावित समय किया निर्धारित

बीपीएसपी प्रश्न पत्र लीक मामला सुलक्षा भी नहीं है कि बीपीएसपी परीक्षा का कलैडर जारी कर दिया है बिहार लोक सेवा आयोग ने वर्ष 2022 में आयोजित की जाने वाली संभावित परीक्षाओं की सूची और उसका संभावित समय निर्धारित किया है।

आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेन्द्र कुमार ने बताया कि आयोग के 2022 परीक्षा कैलेंडर के अनुसार 67 वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा अगस्त माह के अंतिम सप्ताह में ली जाएगी। यह संभावित समय है।

BPSC
BPSC

बता दें कि यह परीक्षा 8 मई को ली गई थी, जिसमें प्रश्न पत्र लीक हो जाने की वजह से सभी केन्द्रों की परीक्षा रद्द कर दी गई थी। इस मामले की जांच चल रही है।

ये परीक्षाएं कब ली जाएंगी जानिए

  • सहायक अभियंता असैनिक लिखित (वस्तुनिष्ठ) परीक्षा सितंबर- अक्टूबर तक
  • सहायक अभियंता असैनिक लिखित (वस्तुनिष्ठ) परीक्षा सितंबर- अक्टूबर तक
  • सहायक अभियंता यांत्रिक लिखित (वस्तुनिष्ठ) परीक्षा सितंबर -अक्टूबर तक
  • सहायक अभियंता विद्युत लिखित (वस्तुनिष्ठ) परीक्षा सितंबर अक्टूबर तक
  • बाल विकास परियोजना पदाधिकारी मुख्य (लिखित) प्रतियोगिता परीक्षा अक्टूबर में ली जाएगी
  • सहायक अंकेक्षण अधिकारी (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा अगस्त में ली जाएगी
  • सहायक नगर योजना (टाउन प्लानिंग) पर्यवेक्षक लिखित प्रतियोगिता परीक्षा सितंबर- अक्टूबर तक ली जाएगी
  • राजकीय पॉलिटेक्निक राजकीय महिला पॉलिटेक्निक संस्थानों में व्याख्याता लिखित प्रतियोगिता परीक्षा अगस्त- नवंबर तक ली जाएगी
  • राजकीय अभियंत्रण महाविद्यालयों में सहायक प्राध्यापक लिखित प्रतियोगिता परीक्षा अक्टूबर- नवंबर तक ली जाएगी
  • परियोजना प्रबंधन मुख्य लिखित प्रतियोगिता परीक्षा- सितंबर में ली जाएगी
  • केक्षक (बिहार पंचायत अंकेक्षण सेवा) की परीक्षा सितंबर में ली जाएगी
  • हायक लोक स्वच्छता एवं अपशिष्ट प्रबंधन पदाधिकारी लिखित प्रतियोगिता परीक्षा- नवंबर में ली जाएगी।

67 #BPSC पेपर लीक कांड बड़ा खुलासा

अररिया से गिरफ्तार राजस्व पदाधिकारी राहुल कुमार खुद भी थे परीक्षार्थी । सिवान में उनका था परीक्षा का सेंटर। परीक्षा के 1 घंटे पहले उनके मोबाइल पर क्वेश्चन और आंसर शीट पहुंचा था मोबाइल से ।सॉल्वर गैंग के सरगना पिंटू यादव से लगातार थे संपर्क में ।

राजश्व पदाधिकारी ने कई और लोगों को भेजा था आपने मोबाइल से क्वेश्चन और आंसर शीट।राजस्व पदाधिकारी के पिता बिहार पुलिस विभाग में है दारोगा ।आर्थिक अपराध इकाई ने किया था दावा।

BPSC

पेपर लीक कांड में सरकारी कर्मियों की भूमिका का दावा जांच के दौरान दावे की हो रही पुष्टि सोमवार को इस मामले में कई और लोगों के खिलाफ वारंट लेगी आर्थिक अपराध इकाई की टीम इस मामले में कई और लोगों की होगी गिरफ्तारी–इओयू। bpsc पेपर लीक कांड के जांच का बढ़ा दायरा।

#BPSCPaperLeak मामले में आईएएस अधिकारी का साख दाव पर

BPSC प्रश्न पत्र लीक मामले में आर्थिक अपराध इकाई जिस तरीके से आईएएस अधिकारी रंजीत कुमार सिंह और  परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार के बीच हुए वॉट्सऐप मैसेज को आधार बनाकर FIR दर्ज किया था, उसी दिन साफ हो गया था की जांच टीम को कही ना कही इन दोनों के बीच प्रश्न पत्र लीक होने को लेकर जो संवाद हुआ है उसको जांच के दायरे में लाना चाह रही है । हालांकि इसको लेकर आईएएस अधिकारियों ने मीडिया में खबर आने के बाद गहरी नाराजगी व्यक्त किया था अब खबर आ रही है कि आर्थिक अपराध इकाई ने रंजीत कुमार सिंह से लंबी पूछताछ की है और उनके वॉट्सऐप पर प्रश्न पत्र लीक होने कि सूचना भेजने वाले लड़के के बारे में जानकारी मांगी है ।

ऐसा कहां जा रहा है कि जो लड़का इनको  वॉट्सऐप किया था उसके साथ इनकी कई तस्वीरे सोशल मीडिया पर मौजूद है। लेकिन सवाल उठता है कि इसमें गलत क्या है ,उक्त आईएएस अधिकारी प्रश्न पत्र लीक होने की सूचना परीक्षा शुरू होने से कोई 16 मिनट पहले BPSC के परीक्षा नियंत्रक को भेजा है ये कोई अपराध तो नहीं है ये तो हर जनता का कर्तव्य है कि कही कोई अपराध होने कि सूचना मिलती है तो तुरंत पुलिस या फिर संबंधित विभाग को सूचना दे।

लेकिन बड़ा सवाल यह है कि प्रश्न पत्र लीक होने कि सूचना छात्र नेता दिलीप कुमार ने भी अपने सोशल मीडिया के पेज पर सार्वजनिक किया था उसने 11:49 पर प्रश्न पत्र की कॉपी मुख्यमंत्री कार्यालय को भी भेज दिया था आर्थिक अपराध इकाई उससे पांच घंटे तक पूछताछ भी किया था लेकिन उसके मोबाइल को आर्थिक अपराध इकाई ने केस का हिस्सा नहीं बनाया । हालांकि आर्थिक अपराध इकाई का कहना है कि मामला काफी संवेदनशील है ऐसे में हमारे पास गवाह के तौर पर आईएएस अधिकारी मौजूद हैं तो फिर छात्र नेता को सूचक की श्रेणी में रखने का कोई मतलब नहीं है ,क्यों कि ये बयान बदल भी सकता है लेकिन जानकार बता रहे हैं कि आईएएस अधिकारी के मोबाइल नम्बर का जिक्र FIR में करना दूर की सोच है क्यों जिस नम्बर से आईएएस अधिकारी को प्रश्न पत्र लीक होने कि सूचना दी गयी है अभी तक जो साइंटिफिक इन्वेस्टिगेशन हुआ है उसमें उस नम्बर की भूमिका संदिग्ध है जिस वजह से आर्थिक अपराध इकाई उसे सामने आने को लेकर लगातार दबिश बनाए हुए हैं।

1—व्हिसल ब्लोअर की भूमिका क्यों है संदेह के घेरे में 

आर्थिक अपराध इकाई प्रश्न पत्र लीक की घटना के पांच दिन बीत जाने के बाद भी किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है अभी तक उनका पूरा अनुसंधान प्रश्न पत्र लीक कहां से हुआ और प्रश्न पत्र से जुड़ा पहला वॉट्सऐप मैसेज किसके मोबाइल से भेजा गया इस पर ही केंद्रित है इसी कड़ी में आर्थिक अपराध इकाई छात्र नेता और आईएएस अधिकारी से पूछताछ किया है वैसे बिहार के लिए ये कोई नहीं बात नहीं है पिछले बीपीएससी परीक्षा के दौरान भी औरंगाबाद में आरा की तरह ही हंगामा हुआ था लेकिन बीपीएससी प्रश्न पत्र लीक को लेकर कोई जांच नहीं करायी और सिर्फ औरंगाबाद सेंटर की परीक्षा रद्द कर पूरे मामले का इति श्री कर दिया था ।लेकिन इस बार ऐसा क्या हुआ जो आरा के हंगामे के बाद चंद मिनटों में कमेटी भी बन गयी और शाम होते होते कमिटी का रिपोर्ट भी आ गया और परीक्षा भी रद्द हो गया । पेच यही है प्रश्न पत्र लीक करने वाले गिरोहों के बीच ऐसा क्या हुआ जो प्रश्न पत्र लीक की खबर एक आईएएस अधिकारी तक के पास पहुंचा दिया खेला यही है और आर्थिक अपराध इकाई इसी खेल को उजागर करने के लिए तथाकथित व्हिसल ब्लोअर को ही जांच के दायरे में ले आया है बस देखना यह है कि कब सच सामने आता है या फिर आता भी है कि नहीं ।

2–कौन है आईएस रंजीत कुमार सिंह  

रंजीत कुमार के बारे में मुझे कोई खास जानकारी नहीं था बहुत पहले हमारे एक मित्र ने कहा था कि रंजीत मेरा जूनियर रहा है और अच्छा लड़का है बात आयी चली गयी लेकिन यही कोई छह माह पहले इसकी एक खबर को यूट्यूब से हटाने को लेकर एक बड़ा खेल हुआ मुझे समझ में नहीं आया कि एक वर्ष पूरानी खबर को यूट्यूब से हटाने को लेकर इस तरह का खेल करने की जरूरत क्या है । इस घटना के बाद पहली बार रंजीत कुमार के बारे में जानकारी जुटाना शुरू किया क्यों कि जिस व्यक्ति ने यूट्यूब से खबर हटाने को लेकर खेल खेला उसके बारे में पता चला कि इसका एक एनजीओ है जो मधुबनी में कुछ काम किया था उसमें गड़बड़ी हुई थी जिसको लेकर स्थानीय पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर कर दिया है उसी को लेकर कुछ मोल भाव हुआ है बात आयी गयी ये सब चलता रहता है।

bpsc

लेकिन इस बार चर्चा में आया तो दिलचस्पी बढ़ी  रंजीत कुमार सिंह गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी हैं और इन दिनों बिहार प्रतिनियुक्ति पर आये हुए हैं ।इनकी खासियत यह है कि बहुत ही लम्बे अर्से बाद कोई ऐसा बिहारी है जो बिहार में पढ़ाई किया , पटना में तैयारी किया और पटना विश्वविद्यालय में पढ़ाई करते हुए आईएएस बना था जिस दौर में इसका चयन हुआ था उस दौर में ये बिहार के छात्रों का हीरो हुआ करता था । हालांकि उस दौर में भी इसके चयण को लेकर कई तरह के किस्से पटना विश्वविद्यालय के छात्रों के जुबान पर आज भी है खैर जो भी हो लेकिन प्रतिनियुक्ति पर बिहार आने के बाद उन्हें सीतामढ़ी का डीएम बनाया गया बाद में इनके कई किस्से मशहूर होने लगे और फिर सरकार उनको सीतामढ़ी से हटा कर शिक्षा विभाग पटना में पोस्ट कर दिया । चर्चा यह है कि शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों के तबादले को लेकर मंत्री और इनके बीच विवाद की बात सामने आयी और रातो रात इनका शिक्षा विभाग से तबादला कर दिया गया और शिक्षा विभाग के सारा तबादले को रद्द कर दिया है ।

व्यक्तिगत जीवन को लेकर भी कई तरह की चर्चा सरेआम है जो भी हो लेकिन जब BPSC प्रश्न पत्र लीक मामले में एक मीडिया द्वारा सवाल खड़े किये जाने के बाद उनकी जो प्रतिक्रिया आयी वो भी चौकाने वाला था,मीडिया को एक प्रेस रिलीज जारी किया प्रेस रिलीज का मजबून देख ऐसा लगा कि यह रिलीज आर्थिक अपराध इकाई या फिर BPSC द्वारा जारी किया गया है जबकि दोनों ऐन्जसी से बात कि गई तो वो साफ इनकार कर दिये। बाद में प्रेस रिलीज पर जब गौर किया गया तो किसकी ओर से जारी किया गया है उसका नाम ही दर्ज नहीं था खैर कभी कभी अनुभव की कमी या फिर अति आत्मविश्वास की वजह से इस तरह की गलतियां हो जाती है और यही वजह है कि आर्थिक अपराध इकाई ने बस किसी नम्बर से प्रश्न पत्र लीक होने की सूचना इन तक पहुंची इसकी जानकारी देने के लिए मुख्यालय बुलाया तो बड़ी खबर बन गयी ।

खैर मामला जो भी हो साख दाव पर जरूर लग गया है ।

BPSC Paper Leak: बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा प्रश्न पत्र लीक मामला

आर्थिक अपराध थाने में मामला दर्ज होने के बाद आर्थिक अपराध इकाई ने जांच के लिए बनाई गई। 12 सदस्य टीम की संख्या बढ़ाकर 16 कर दिया है ।

टीम में 6 डीएसपी, 6 इंस्पेक्टर, 3 दरोगा को शामिल किया गया है । एसपी सुशील कुमार के नेतृत्व में पूरी जांच चल रही है।आर्थिक अपराध इकाई की टीम ने वीर कुंवर सिंह कॉलेज से परीक्षा से संबंधित सभी कागजात जांच के लिए ले लिए हैं।

BPSC

आर्थिक अपराध इकाई की टीम जांच में आईटी विशेषज्ञों की भी सहायता ले रही है।

आर्थिक अपराध इकाई को मिला BPSC प्रश्न पत्र लीक मामले जांच का जिम्मा

बिहार लोक सेवा आयोग के संयुक्त परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक होने का मामला, बिहार लोक सेवा आयोग का पत्र राज्य पुलिस मुख्यालय पर मिला । पूरे मामले में आर्थिक अपराध इकाई को जांच का जिम्मा दिया गया।

आर्थिक अपराध इकाई के एडीजी नैयर हसनैन खान के नेतृत्व में विशेष टीम बनाया गया । टीम में कई विभिन्न एक्सपर्ट को शामिल किया गया । राज पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर आर्थिक अपराध इकाई ने जांच शुरू कर दिया है।

राज्य के पुलिस महानिदेशक का कहना है जांच शुरू कर दी गई है । कई तरीके के एविडेंस को कलेक्ट किया जा रहा है जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है । राज्य के पुलिस महानिदेशक ने यह भी कहा कि मामला बहुत ही गंभीर है और चुनौती भरा है और अब विशेष टीम पूरे मामले की जांच करेगी।

Bihar Breaking News : रविवार को आयोजित BPSC 67वीं PT के पेपर को रद्द कर दिया गया है

पटना । रविवार को आयोजित BPSC 67वीं PT के पेपर को रद्द कर दिया गया है। आयोग ने यह फैसला पेपर आउट होने के बाद लिया है।

बताया जा रहा है कि एग्जाम शुरू होने के पहले ही सी सैट का पेपर सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। इसके बाद आयोग ने 3 सदस्यीय कमेटी गठित की थी, जिसको 24 घंटे में रिपोर्ट सौंपनी थी, लेकिन कमेटी ने 3 घंटे के अंदर ही अपनी रिपोर्ट दे दी।

BPSC Notification

इसके बाद आयोग के अध्यक्ष आरके महाजन ने परीक्षा रद्द करने का फैसला लिया है। अब दोबारा परीक्षा की नई तिथि घोषित की जाएगी।

67 वीं बिहार लोक सेवा आयोग की संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा की तिथि बदली

67 वीं बिहार लोक सेवा आयोग की संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा जो पूर्व से 7 मई को निर्धारित की सीबीएससी स्कूल के परीक्षा होने के कारण यह परीक्षा 8 मई को आयोजित की जाएगी बिहार लोक सेवा आयोग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है

BPSC notification
BPSC notification

बिहार प्रशासनिक सेवा के 17 पदाधिकारीयों का तबादला।

सामान्य प्रशासन विभाग ने जारी की अधिसूचना

  • कुंदन कुमार बनाए गए बाढ़ के एसडीओ।
  • प्रियंका कुमारी बनी एसडीओ दलसिंहसराय।
  • प्रदीप कुमार बने गोपालगंज नए एसडीओ ।
  • अमिताभ कुमार बने किशनगंज के एसडीओ।
  • आदित्य कुमार झा बने हवेली खड़गपुर मुंगेर के नए अनुमंडल पदाधिकारी होंगे।
  • अमित अनुराग बने खगड़िया सदर के एसडीओ ।
  • कुमारी तोशी बनी बाईसी पूर्णिया की एसडीओ।
  • सुमित कुमार बने उप सचिव समाज कल्याण विभाग।
सामान्य प्रशासन विभाग
  • उपेंद्र कुमार पाल बने अनुमंडलीय लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी ,राजगीर।
  • अमरेंद्र कुमार बने अनुमंडलीय लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी, तेघड़ा बेगूसराय।
  • शहनवाज अहमद बने अनुमंडलीय लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी उदाकिशुनगंज।
  • धर्मेंद्र कुमार बने अनुमंडलीय लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी औरंगाबाद सदर।
  • ज्ञानेंद्र कुमार को बनाया गया उप सचिव भवन निर्माण विभाग ।
  • उपेंद्र प्रसाद सिंह बने शिक्षा विभाग के उप निदेशक ।
  • सुमन प्रसाद सिंह को पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग के उप सचिव की मिली कमान ।
  • निरंजन कुमार को बनाया गया निबंधन उत्पादन एवं मद्य निषेध विभाग का उप सचिव।
  • धर्मेंद्र कुमार सिंह बनी जिला पंचायत राज पदाधिकारी शेखपुरा।

हाईकोर्ट ने 67 वीं बीपीएससी परीक्षा में अधिकतम उम्र सीमा में छूट दिए जाने के मामले पर सुनवाई पूरी निर्णय सुरक्षित ।

पटना हाईकोर्ट ने 67 वीं बीपीएससी परीक्षा में अधिकतम उम्र सीमा में छूट दिए जाने के मामले पर सुनवाई पूरी कर निर्णय सुरक्षित रख लिया है ।

जयदीप अभय व अन्य की ओर से दायर रिट याचिकाओं पर जस्टिस चक्रधारी शरण सिंह ने सभी पक्षों का बहस सुनने के बाद सुरक्षित रखा। याचिकाकर्ताओं की ओर से कोर्ट को बताया गया कि राज्य में पिछले 15 वर्षों से लोक सेवा प्रतियोगिता परीक्षा को , हर साल लेने की जगह दो तीन वर्षों की परीक्षा एक साथ संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित किया जाता है।

हर वर्ष बहाली के लिए परीक्षा आयोजित नही होने के कारण अभ्यार्थियों को परीक्षा में बैठने का समान अवसर नही मिलता है।अगर हर वर्ष परीक्षा आयोजित किया जाता,तो उम्मीद्वार को पूरा अवसर मिलता।
साथ ही संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित करने पर अवसर कम मिल पाएंगे।

परीक्षा में शामिल होने की उम्र सीमा खत्म होने के बाद उन्हें परीक्षा में शामिल होने का अवसर नहीं प्राप्त होता है। उन्हें समान अवसर नहीं प्राप्त मिलने के कारण उनके साथ न्याय नहीं हो पाता है।

वहीं बीपीएससी की तरफ से इन याचिकाओं का विरोध करते हुए अधिवक्ता संजय पाण्डेय ने कोर्ट को बताया गया संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा में अधिकतम उम्र में छूट दी जाती रही है ।

साथ ही उन परीक्षाओं में हर वर्ष की रिक्तियां भी एकसाथ सम्मिलित रहती है । अभ्यार्थियों को उचित अवसर मिलता मिलता है ।हाई कोर्ट ने सभी पक्षों का बहस सुनने के बाद इस मामले पर निर्णय सुरक्षित रख लिया ।